Header Ads

ताज़ा खबर
recentposts

आज से गूंजेगा गणपति बप्पा मोरिया



आज से महानगर में गणपति बप्पा मोरिया के जयकारे सुनाई देंगे। सोमवार को गणेश चतुर्थी के साथ गणेशोत्सव प्रारंभ होगा। रविवार देर रात कई पंडालों में बप्पा की मूर्ति विराजमान की गई। सोमवार को पूजा अर्चना के साथ आयोजन शुरू कर दिया जाएगा। सभी गणेश मंदिरों में पूजा अनुष्ठान कार्यक्रमों को अंतिम रूप दे दिया गया है। गणेश जी की मूर्तियों के लिए लगे पंडालों की आकर्षक तरीके से सजाया गया है। रंगबिरंगी लाइटें और फूलों से पंडाल सजाए गए हैं। सोमवार से शुरू हो रहा गणेशोत्सव 15 सितंबर तक चलेगा।


21 दूबा व लड्डू चढ़ाए गजानन को
पूजन विधान के अंतर्गत चतुर्थी की सुबह भगवान विनायक की मूर्ति श्रद्धालु सोने, चांदी, मिट्टी, पीतल अथवा गोबर से बनाकर शुभ अवसर पर विधिवत पूजन करें। चावल व पुष्प को हाथों में लेकर संकल्प करें तथा मूर्ति के समीप रख दे। गणेश जी को सिंदूर चढ़ाए और 21 दूबा गणेश मंत्रों के साथ चढ़ाए। 21 लड्डू का भोग लगाकर उनमें से पांच मूर्ति के पास रख दे, पांच ब्राह्मणों को दे और शेष प्रसाद के रूप में वितरित करे तथा षोडषोपचार विधि से पूजन करें।

तुला राशि वाले सफेद व लाल गुलाब अर्पित करें
चतुर्थी पर भगवान गणेश को तुला राशि के जातक सफेद फूलों की माला एवं लाल गुलाब अर्पित करें, तो निरोगी होने का आशीष प्राप्त होगा। मेष राशि के जातक लाल फूलों की माला, वृषि राशि के सफेद, मिथुन राशि के नीले, कर्क राशि के सफेद गुलाब, सिंह राशि के पीला गुलाब, कन्या राशि के नीला कमल का फूल, वृश्चिक राशि के लाल फूल, धनु राशि के पीला, मकर व कुंभ राशि के नीला, मीन राशि के जातक पीला फूल व कमल का फूल अर्पित करें।

हरितालिका तीज पर रात भर हुए भजन कीर्तन
रविवार को हरितालिका तीज का पर्व मनाया गया। सुहागिन महिलाओं ने पति की दीर्घायु व कुंवारी लड़कियों ने अच्छे पति की कामना के साथ 24 घंटे निर्जल व्रत रखकर मां गौरी तथा भगवान शिव का आराधना की।


शाम के समय व्रत रखने वाली महिलाओं ने अपने घरों में साड़ियों से झांकियां सजाईं और विधि विधान से मां गौरी तथा शिव मूर्ति विराजमान कर पूजा की। रात भरे चले भजन गायन के बाद सुबह महिलाओं पूजन अर्चना बाद पानी पीकर व्रत का समापन होगा। रात भर महानगर क ी गलियों में चहल पहल बनी रही। धार्मिक मान्यता है कि हरितालिका तीज पर मां पार्वती ने कठोर तपस्या कर भगवान शिव को पति रूप में पाने का वरदान पाया था। शिव ने वरदान दिया था कि जो कन्या हरितालिका तीज पर व्रत रखेगी, उसे मनवांछित पति प्राप्त होगा। पुराणों के अनुसार सुहागिन महिलाएं व्रत को नियम से रखे तो, उसका सुहाग सलामत रहता है।
  • कैसा लगा

No comments:

Powered by Blogger.