Header Ads

ताज़ा खबर
recentposts

शादियों के अजीब रिवाज़ आज भी कायम हैं, क्यों? इनका जवाब इसे निभाने वालों को भी नहीं पता weirdest-indian-wedding-rituals


अपने देश में न जाने कितने धर्म और जातियां एक साथ रहती हैं. लेकिन इन सब में कितनी भी भिन्नता हो, शादी हर धर्म और जाति का महत्वपूर्ण हिस्सा है. जब दो लोग अपनी नई ज़िंदगी की शुरुआत करते हैं. दो परिवार एक होते हैं. लेकिन भारत में शादी किसी महोत्सव की तरह मनाई जाती है. घर की रौनक, रिश्तेदारों की भीड़, खाने से ले कर घर की सजावट तक का खास ध्यान रखा जाता है. लेकिन भारत में अलग-अलग जातियों की शादियों में कुछ ऐसे रिवाज़ हैं, जिनके होने का कारण तो पता नहीं, लेकिन उसे जान कर एक बार तो शादी करने से किसी का भी दिल घबरा जाए.

1. बंगाली शादी

बंगालियों की शादी में एक अजीब रिवाज है, शादी के बाद पहली रात पति-पत्नूी एक साथ नहीं सोते. इसका कारण है कि दुल्हन अपने ससुराल को देखती और परखती है. अगर उसे अपने ससुराल में किसी तरह की समस्या दिखे, तो वो उसे छोड़ कर जा सकती है. साथ ही ये भी मान्यता है कि शादी के बाद थके हुए दूल्हा-दुल्हन एक साथ सोना सही नहीं. अगली रात जब वो तरोताज़ा हों तब उनकी सुहाग रात होनी चाहिए.

2. कानपुर, उत्तर प्रदेश

अगर आप कानपुर किसी शादी में बाराती बन कर जा रहे हैं, तो हम आपको एक सलाह देते हैं कि आप नए कपड़े न पहनें. यहां बाराती और दूल्हे का स्वागत टमाटर और आलुओं से किया जाता है. इतना ही नहीं स्वागत के स्वर में आपको गालियां भी सुनने को मिल सकती हैं. वहां की मान्यता के अनुसार, जो रिश्ता लड़ाई से शुरू होता है उसमें प्यार बहुत ज़्यादा होता है.

3. तमिल ब्राह्मणों की शादी

तमिल ब्राह्मण शादियों का रिवाज़ थोड़ा निराला है. मंडप पर बैठने से पहले दूल्हा नाराज़ हो जाता है और बैरागी बन शादी की जगह से निकल जाता है. इसके बाद लड़की का पिता उसे मनाने जाता है. इस दौरान लड़की का पिता उसे शादी करने के लिए कई तरह के प्रलोभन देता है. जिसके बाद दूल्हा शादी के लिए राजी होता है. थोड़ा मज़ेदार लेकिन अजीब है ये रिवाज़.

Source: indiaopines

4. सिंधी शादी

सिंधी शादियां वैसे तो काफ़ी सही होती हैं. लेकिन इन शादियों में भी एक अजीब रिवाज होता है. शादी कराने वाला पुजारी दूल्हा और दुल्हन को दाएं पैर में पायल पहनाता है, फिर 7 सुहागनें दोनों के सिर पर तेल डालती हैं. इस रिवाज के बाद दूल्हा-दुल्हन को नए जूते पहनने को दिए जाते हैं और उन्हें दिये तोड़ने को कहा जाता है. इतना ही नहीं, दूल्हे के कपड़े फाड़ कर उसे नए कपड़े पहनाए जाते हैं. ये दूल्हा-दुल्हन की नज़र उतारने का एक तरीका है.

5. बिहारी शादी

सिर पर चावल के बर्तन को रख कर घर के बड़े-बुज़ुर्गों का आशीर्वाद लेती हैं दुल्हनें. बिहारी शादी में ये रिवाज़ आम है. इसका कारण है कि इससे दूल्हे के घर वालों को ये पता चलता है कि दुल्हन घरवालों और बड़े-बुज़ुर्गों के साथ सामंजस्य बैठा सकती है या नहीं.

6. बंगाली शादी

बंगाली शादियों में एक रिवाज़ ये भी कि दुल्हन की मां को शादी वाली रात दूल्हे को देखने की इजाज़त नहीं होती.

7. उड़िया शादी

घर के दामाद का रुतबा अपनी ससुराल में किसी राजा जैसा होता है. लेकिन उड़िया शादी में उसे अपने साले से मार खानी पड़ती है. जी हां, ये एक रिवाज है, जिसकी मान्यता है कि इससे साले और जीजा में दोस्ती गहरी होती है. 

No comments:

Powered by Blogger.